दिल्ली के तुगलकाबाद एक्सटेंशन में भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है. यहां एक खास समुदाय के धर्मस्थल को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हटाया जा रहा है, जिसको लेकर इलाके में कानून व्यवस्था खराब न हो, इसलिए इस इलाके में पुलिस फोर्स की तैनाती की गई है. बताया जा रहा है कि इस जमीन को लेकर काफी समय से कोर्ट में मामला चल रहा था.दरअसल, इस खास समुदाय के लोगों का कहना है कि ये धर्मस्थल करीब 500 साल पुराना है, जिसे उनके धर्म गुरुओं ने बसाया था. जमीन करीब 12 बीघा के आसपास है, जिसके एक हिस्से में उनका एक छोटा-सा धर्मस्थल बना हुआ है. डीडीए ने इसे अपने अधीन ले लिया था और चारो तरफ बाउंड्री बनवा दी थी. हालांकि धर्मस्थल पर जाने का रास्ता छोड़ दिया था. इस जमीन को लेकर डीडीए से उनका विवाद चल रहा था.निचली अदालत से हाईकोर्ट और उसके बाद जब मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा, तो शीर्ष कोर्ट ने इसे फौरन यहां से हटाने का आदेश दे

दिया. इसके बाद पुलिस के नेतृत्व में धर्मस्थल को हटाने के साथ-साथ बाउंड्री वॉल के उस रास्ते को भी बंद कर दिया गया. हालांकि इसको लेकर एक समुदाय के लोग बेहद गुस्से में हैं और 21 अगस्त को दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन करने की तैयारी कर रहे है.इनका दावा है कि इस विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए देश के कोने-कोने से लोग पहुचेंगे. फिलहाल इस विवादित जगह के आसपास भारी संख्या में पुलिस फोर्स की तैनाती की गई है. यह इलाका पूरी तरह से पुलिस के नियंत्रण में है. हालांकि इस खास समुदाय के कुछ लोगों का यह भी कहना है कि इस धर्मस्थल को कहीं और शिफ्ट करना चाहिए था. इसके बाद कोई कदम उठाया जाना चाहिए था.