जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटने से पहले से ही वहां भारी तादाद में सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है. जम्मू और श्रीनगर में धारा 144 लागू है और कई इलाकों में कर्फ्यू भी लगाया गया है. इस बीच वहां से एक ऐसी खूबसूरत तस्वीर आई है जो सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई. इस तस्वीर को घाटी में अमन और शांति की उम्मीद के तौर पर देखा जा रहा है.घाटी में तैनात क्रप्फ की एक महिला सुरक्षाकर्मी को स्थानीय बच्चे से हाथ मिलाने की इस फोटो की खूब चर्चा हो रही है. सीआरपीएफ जवान की इस फोटो को दूरदर्शन और प्रसार भारती ने गुरुवार को अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर करते हुए लिखा कि यह विश्वास और मुस्कुराहट का अटूट संगम है. इसके बाद लगातार यूजर्स इसे शेयर कर रहे हैं और इस फोटो की तारीफ कर रहे हैं. घाटी में आज शुक्रवार के दिन जुमे की नमाज भी पढ़ी जानी है जिसके लिए पुख्ता इंतजाम किए गए हैं.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गुरुवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में घाटी में जल्द हालात सामान्य होने की उम्मीद जताई है. साथ ही उन्होंने कश्मीरियों को भरोसा दिलाया कि उन्हें बकरीद मनाने में कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में

यह भी कहा कि सरकार के इस फैसले से कश्मीर का विकास होगा और उन्नति के नए रास्ते भी खुलेंगे. पीएम ने अपने संबोधन में कश्मीर में जल्द चुनाव कराने और युवाओं को प्रतिनिधित्व करने के लिए प्रेरित भी किया.बीते दिनों राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाली धारा 370 को निष्प्रभावी कर दिया गया है. इसके बाद देश के तमाम कानून अब से घाटी में भी लागू होंगे. इसके अलावा जम्मू कश्मीर और लद्दाख को 2 अलग-अलग हिस्सों में बांटकर केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है. कश्मीर में विधानसभा होगी जबकि लद्दाख बगैर विधानसभा का केंद्र शासित प्रदेश होगा.कुछ रोज पहले ही एनएसए अजीत डोभाल को घाटी के आम लोगों के साथ सड़क किनारे खाना खाते भी देख गया था. डोभाल कश्मीर के हालात का जायजा लेने के लिए वहां मौजूद है और स्थानीय नागरिकों में भरोसा कायम करने की कोशिशों में लगे हैं. हालांकि उनकी तस्वीरें वायरल होने के बाद इस पर राजनीति भी शुरू हो गई और कांग्रेस ने इस पैसे के बल पर की गई हरकत बताया था.