लखनऊ,। यूपी के बिजनौर क्षेत्र में 15 एकड़ की जमीन पर 350 करोड़ रुपये की लागत से फॉरेंसिक और पुलिस विश्वविद्यालय तैयार किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक इस विश्वविद्यालय में फोरेंसिक एक्सपर्ट तैयार किए जाएंगे। बता दें कि डीजीपी ओमप्रकाश सिंह ने सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने प्रस्तुतीकरण दिया था। इसमें उन्होंने भविष्य में आपराधिक वारदातों की विवेचना के लिए तकनीक के लिहाज से यूपी पुलिस के सामने आने वाली चुनौतियों का जिक्र किया था। इसी क्रम में आगे कहा कि अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए जरूरी प्रौद्योगिकियों में विशेषज्ञता, प्रशिक्षित जनशक्ति तैयार करने और तकनीक को एकीकृत करने की चुनौतियों का समाधान इस विश्वविद्यालय के माध्यम से किया जा सकता है। जिसके बाद सीएम योगी ने विभागीय अधिकारियों को इस काम में तेजी लाने के निर्देश दिए थे। सूत्रों के मुताबिक डीजीपी कार्यालय ने फोरेंसिक एवं पुलिस

विश्वविद्यालय का प्रारूप तैयार कर लिया है। यह गुजरात के फोरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय की तर्ज पर बनेगा। इसमें भौतिकी, आग्नेयास्त्र, विष विज्ञान, जीव विज्ञान, डीएनए, साइबर अपराध, रसायन व्यवहार विज्ञान एवं विधि जैसे विषयों से संबंधित विभाग होंगे। विश्वविद्यालय में अधिकारियों व कर्मचारियों के 496 पद प्रस्तावित किए गए हैं। इसमें वाइस चांसलर, रजिस्ट्रार, कंट्रोलर, डीन के पदों पर नियुक्तियां होंगी। साथ ही नियमों के तहत आने वाले अन्य काबिल लोग भी विश्वविद्यालय में अधिकारी के विभिन्न पदों के लिए आवेदन कर सकेंगे।