उपभोग घटने से आई सुस्ती के मद्देनजर वाहन दिग्गज मारुति सुजुकी इंडिया ने 1,000 अस्थायी कर्मचारियों की छंटनी कर दी है और नई भर्तियों को रोकने की योजना बनाई है. इसके अलावा कंपनी वर्तमान मंदी से निपटने के लिए अन्य लागत कटौती उपायों की योजना बना रही है.इस घटना से जुड़े एक सूत्र ने न्यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया कि अस्थायी कर्मचारी सबसे पहले प्रभावित होते हैं और इस मामले में भी ऐसा ही हुआ. हालांकि आईएएनएस ने जब कंपनी से संपर्क किया तो इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की गई.उद्योग के जानकारों का कहना है कि माह-दर-माह बिक्री गिरने और डीलरशिप पर इंवेंट्री के बढ़ने से न सिर्फ मारुति सुजुकी, बल्कि अन्य वाहन कंपनियों को भी उत्पादन कम करना पड़ा है, जिसके कारण फैक्ट्री और खुदरा स्तर पर नौकरियां कम हो गई हैं.इस मंदी की चपेट में वाहन कंपनियों की बिक्री न सिर्फ कम हुई है, बल्कि निचले स्तर पर पहुंच गई है. गुरुवार को मारुति सुजुकी इंडिया ने कुल बिक्री में जुलाई में 33.5 फीसदी गिरावट की जानकारी दी थी, जिसमें कंपनी द्वारा किए जानेवाला निर्यात भी शामिल था.मारुति सुजुकी इंडिया के मुताबिक, पिछले महीने उसने कुल 1,09,264 वाहनों की बिक्री की, जबकि पिछले वित्त वर्ष के इसी महीने में कंपनी ने कुल 1,64,369 वाहनों की बिक्री की थी.

समीक्षाधीन अवधि में कंपनी की घरेलू बिक्री में साल-दर-साल आधार पर 35.1 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है, जोकि जुलाई में कुल 1,00,006 वाहनों की रही.हालांकि, कंपनी के कुल घरेलू यात्री वाहनों की बिक्री में साल-दर-साल आधार पर 36.7 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, जोकि 96,478 वाहनों की रही. कंपनी के लाइट कमर्शियल वाहनों की बिक्री में 0.5 फीसदी की मामूली तेजी दर्ज की गई, जोकि कुल 1,732 वाहनों की रही.वाहन दिग्गज के निर्यात में जुलाई में 9.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, जोकि 9,258 वाहनों की रही, जबकि पिछले साल के इसी महीने में कंपनी ने कुल 10,219 वाहनों का निर्यात किया था.पिछले महीने मारुति सुजुकी ने बताया कि वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में उसके मुनाफे में 27.3 फीसदी की कमी आई, जोकि 1,435.5 करोड़ रुपये रहा.