बच्चे हो या बड़े हर किसी को नूडल्स खाना काफी पसंद होता है। नूूडल्स के लिए अलग अलग तरह टेस्ट व मसाले का इस्तेमाल करते है। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि नूडल्स आपकी सेहत के लिए अच्छे है या नही? एक रिसर्च में पाया गया है कि घर में बनाए गए नूडल्स 1 या 2 घंटे में पच जाते है, वहीं इंस्टेट नूडल्स पेट में बरकरार रहते है। वह जल्दी पचते नही है। यह पेट भरने का काम तो करते है लेकिन शरीर में किसी भी तरह का पोषण नही देते है। हमारी आंते इन नूडल्स को जल्दी पचा नही पाते है। हो सकता है ट्यूमर व कैंसर 
एफडीए के अनुसार काफी समय तक नियमित रुप से इंस्टेट नूडल्स खाने से ट्यूमर व कैंसर जैसी बीमारी होने का खतरा रहता है। इसमें तृतीयक ब्यूटाइल हाइड्रोक्विनोन नामक तत्व पाया जाता है जो कि मुख्य रुप से इत्र में पाया जाता है। खाने में इसका इस्तेमाल होने से यह बीमारी को न्यौता देने के साथ हमारे शरीर के अंगों को भी कमजोर कर सकता है। टीबीएचक्यू के मुताबिक इसमें प्रोपली ग्लाइकोल पाया जाता है। इस तरह के रसायन का इस्तेमाल तंबाकू उत्पादों में किया जाता है। पैकेजिंग में पाया जाता है बीपीए इन नूडल्स को जिस में पैक किया जाता है उसमें बिस्फेनॉल ए यानि की बीपीए पाया जाता है। जब हम इन कपों को माइक्रोवेव में रख कर गर्म करते है तो नूडल्स में  बीपीए मिक्स हो जाता है। जो कि हमारे शरीर में प्रवेश करने के बाद हमारे पाचन सिस्टम को नष्ट करता है। पाए जाते है कई तरह के रसायन 
इसमें कॉर्न सिरप, पाम ऑयल,मोनो सोडियम ग्लूटामेट जैसे सिंथेटिक रसायन पाए जाते है। जिसका लगातार लंबे समय तक सेवन करने से शरीर पर काफी बुरे प्रभाव पड़ सकते है। इसलिए अगर आप नूडल्स बनाकर खाना चाहते है तो आप घर पर नूडल्स बना कर खा सकते है।