कई बार संगीत सुनने के लिए इयरफोन का प्रयोग करते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि इयरफोन लगाकर सोने से कई तरह की दिक्कतें होती हैं। ये कान के पर्दों के लिए खतरा बन सकता है। इससे सुनने की शक्ति पर असर पड़ सकता है। इसके अलावा ये आदत आपके लिए घातक साबित हो सकती है।
ईयरफोन से गंवानी पड़ी व्यक्ति को जान 
हाल ही में मलेशिया में एक 16 साल के लड़की की जान ईयरफोन लगाकर सोने से हुई।  दरअसल, फोन चार्जिंग में लगा होने के बावजूद  उसने ईयरफोन कान में लगा रखे थे जिसके चलते  करंट लगने उसकी मौत हो गई।
दिमाग और कान की नसें कमजोर
ईयरफोन लगाने के और भी कई नुकसान है। इसका ज्यादा इस्तेमाल करने से दिमाग व कान की नसे कमजोर होने लगती है जिससे मस्तिष्क बुरी तरह प्रभावित होता है। 
नींद को करता है प्रभावित
देर रात म्यूजिक सुनने से नींद पर बुरा असर पड़ता है। हमारे दिमाग की नसे एक्टिव रहती हैं जिस कारण उन्हें पर्याप्त आराम नहीं मिल पाता है। देर रात तक फोन का इस्तेमाल वैसे भी नींद को गायब कर देता है जो धीरे-धीरे अनिद्रा की समस्या देने लगता है। 
तनाव
हमारा बिगड़ता लाइफस्टाइल ही तनाव की मुख्य वजह है। हर समय ईयरफोन का इस्तेमाल तनाव का कारण बनता है। 
सुनने की क्षमता कमजोर
सोते वक्त हाई वॉल्यूम पर ईयरफोन लगाकर म्यूजिक सुनने से बॉडी में हार्मफुल इफेक्ट हो सकते हैं। इससे कान की स्किन पर प्रेशर पड़ता है और इससे कानों में वैक्स बनने लगता है जो सुनने की शक्ति भी प्रभावित करता है।
कान का इंफेक्शन
अगर अपना हेडफोन अपने दोस्तों के साथ शेयर करते हैं तो आप कीटाणु भी शेयर कर रहे हैं जो आपके कानों में जाकर आपको संक्रमित कर सेता है। इससे इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।