फर्रुखाबाद। बीजेपी सरकार अबैध कब्जेदारों के खिलाफ सख्त है।जिसके चलते सीएम योगी के सीधे निर्देश है की किसी भी भूमि पर अबैध कब्जा ना हो पाये इसके बाद भी कोई कब्जे का प्रयास करे तो उस पर सख्त कार्यवाही हो। लेकिन सीएम का फरमान जनपद में सुस्त दिख रहा है। यंहा बादशाह द्वारा बनायी गयी सराय में तकरीबन पांच दर्जन ग्रामीणों ने अबैध रूप से कब्जा कर रखा है। जिसकी रिपोर्ट पुरातत्व विभाग ने जिला प्रशासन से तलब की। उसी रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हुई है की सराय की भूमि ग्रामीणों के कब्जे में है। पुरातत्वविद अधीक्षण वसंत कुमार ने बीते 17 सितम्बर 2018 को जिलाधिकारी फर्रुखाबाद को पत्र लिखा। जिसमे उन्होंने बताया की खुदागंज की सराय व स्मारक मस्जिद पर स्थानीय ग्रामीणों ने कब्जा कर लिया है। पुरातत्व विभाग से पत्र आते ही जिलाधिकारी ने तत्काल एसडीएम सदर को जाँच कर आख्या देने के आदेश कर दिये। एसडीएम सदर ने जाँच तहसीलदार सदर को सौप दी। तहसीलदार सदर ने सम्बन्धित लेखापाल को जाँच सौप दी। लेखपाल ने जिलाधिकारी के आदेश के तहत पूरे मामले की जाँच की। जाँच रिपोर्ट में 57 ग्रामीणों को सराय की भूमि पर कब्जा करने का आरोप लगाया गया है।
लेखपाल ने दी गयी जाँच रिपोर्ट ने बताया की कई शताब्दी पूर्व बादशाह फिरोज तुगलक ने इस सराय का निर्माण कराया था। वर्तमान में लगभग 57 लोगों ने कब्जा किया हुआ है। बताया जा रहा है उस भूमि की कीमत इस समय करोड़ों में है। तहसीलदार सदर प्रदीप कुमार ने बताया की उसकी रिपोर्ट भेजी गयी है। जिसमे आलाधिकारियों के आदेश पर कार्यवाही की जायेगी।