उरई,। उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने यहां एक बार फिर भाजपा पर करारा हमला बोला। उन्होंने कहा कि गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हो रहे हमले की जिम्मेदारी लेकर केेंद्र और गुजरात सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए। ओमप्रकाश राजभर यहां भागीदारी सम्मेलन को संबोधित करने आए थे। इसके पहले पत्रकारों से वार्ता करते हुए उन्होंने कहा कि राम मंदिर का मुद्दा भाजपा द्वारा चुनाव के समय ही गरमाया जाता है जबकि उसकी सरकार में भी रामलला तिरपाल के नीचे रहे और भाजपा के नेता एसी कारों और प्लेन में घूमते रहे। हालांकि उन्होंने कहा कि वे राम मंदिर के समर्थक नहीं हैं अगर मंदिर बनाने के लिए अध्यादेश लाने की कोशिश की गई तो वे विरोध करेंगे। उन्होंने कहा कि महंगाई के मुद्दे पर जब भाजपा सरकार में नहीं थी उस समय इसके नेता विरोध के लिए अनोखे हथकंडे अपनाते थे लेकिन सरकार आने के बाद जनता को इससे राहत देने के लिए वे कोई कदम नहीं उठा रहे। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी अपनों की भी सगी नहीं है। यह पार्टी उसके लिए खून पसीना बहाने वाले कार्यकर्ताओं को चुनाव में टिकट देने की बजाय आयातित लोगों को मौका देती है जिन पर भ्रष्टाचार के संगीन इल्जाम भी अनदेखे कर दिए जाते हैं इसीलिए भाजपा राज में भ्रष्टाचार पर अंकुश नहीं हो पा रहा है। ओमप्रकाश राजभर ने जेल रोड स्थित राजपाल रिसॉर्ट में आयोजित भागीदारी सम्मेलन को संबोधित करते हुए संसद में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण, सरकारी स्कूलों की दशा सुधारने और उत्तर प्रदेश में भी शराब बंदी लागू करने की मांग की। सभा की अध्यक्षता शिवसेवक विश्वकर्मा ने की। भूपेश बाथम, जटाशंकर प्रजापति, दीपक झा , हरिओम प्रजापति, त्रिलोकी प्रजापति, रोहित पांचाल, उमेश प्रजापति, महेंद्र प्रजापति, प्रवीण, पंकज, अमित, संदीप,आबिद, आशु, इमरान, शीबू आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।