उरई,। जिलाधिकारी डा. मन्नान अख्तर की अध्यक्षता में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई। बैठक में बताया गया कि प्राथमिक विद्यालयों एवं आंगनबाड़ी केेंद्रों के बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण, स्वास्थ्य टीमों द्वारा किया जाता है। परीक्षण के दौरान जिन बच्चों के किसी प्रकार के रोगों से ग्रसित होने की स्थिति में उन्हें संबंधित स्वास्थ्य केेंद्रों में इलाज हेतु भेजा जाता है। जिलाधिकारी ने इस मौके पर सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केेंद्रों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केेंद्रों के चिकित्साधिकारियों से यह जानकारी की कि उनके स्वास्थ्य केेंद्रों में इस प्रकार के कितने बच्चों का इलाज अब तक किया गया उसकी सूची उपलब्ध कराएं। उन्होंने यह भी कहा कि पिछले वर्षों की भाति इस वर्ष का कार्य अच्छा चल रहा है। उन्होंने समस्त उप जिलाधिकारियों से सभी स्वास्थ्य केेंद्रों में बच्चों के इलाज के संबंध में जानकारी रखने हेतु कहा। आंगनबाड़ी केेंद्रों पर कार्यकत्रियों की उपस्थिति पर विशेष जानकारी रखने के निर्देश दिए गए। जिलाधिकारी ने बच्चों के स्वास्थ्य परीक्षण के संबंध में अगले माह से जांच कराए जाने के भी निर्देश दिए। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी अल्पना बरतारिया, अपर जिलाधिकारी प्रमिल कुमार सिंह सहित सभी चिकित्सा विभाग के चिकित्साधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद रहे।