शिवरात्रि व्रत 9 अगस्त 2018 पर देवाधिदेव शिव को प्रसन्न करने के लिए रुद्राभिषेक और जलाभिषेक का विशेष महत्व है। शास्त्रीय मान्यता है कि शिवरात्रि के दिन भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए 6 प्रकार के अभिषेक बेदह खास हैं। शिवरात्रि के दिन शिव को इन 6 प्रकार के अभिषेक करने से हर मनोकामना पूरी होती है। शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर अलग-अलाव चीजों से अभिषेक करने पर भक्तों को विशेष लाभ होता है।
जानिए इन 6 प्रकार के अभिषेक के बारे में...
जलाभिषेक
शास्त्रों के अनुसार शिव को प्रसन्न करने हेतु जलाभिषेक बेहद खास होता है। शिवरात्रि व्रत के दिन शिव को जलाभिषेक करने पर भक्तों की सभी मनोकामना पूरी होती है। साथ ही जीवन के सभी संकट दूर होते हैं।
दुग्ध अभिषेक
महादेव के अभिषेक में दुग्ध अभिषेक का विशेष महत्व है। शिवरात्रि व्रत पर शिवलिंग पर कच्चे दूध का अभिषेक करने से लम्बी आयु का वरदान प्राप्त होता है। इसके अलावे इस दिन कच्चे दूध में बेलपत्र मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाना अत्यंत लाभकारक माना जाता है।
शहद अभिषेक
शहद अभिषेक भगवान शिव को बेहद प्रिय है। शिवरात्रि व्रत के दिन भोलेनाथ को शहद का अभिषेक करने से जीवन के सारे कष्ट और संकट दूर होते हैं। 
पंचामृत अभिषेक
पंचामृत में दूध, दही, मिश्री, घी और शहद के मिश्रण होता है। शिवरात्रि व्रत के दिन शिव को पंचामृत से अभिषेक करने से धन से संबंधित परेशानी दूर होती है। साथ ही इस दिन शिव को पंचामृत से अभिषेक करने पर धन-संपदा की प्राप्ति और वृद्धि होती है। 
घी अभिषेक
घी अभिषेक महादेव को अत्यंत प्रिय है। शिवरात्रि व्रत के दिन शिवलिंग पर घी का अभिषेक करने या घी चढ़ाने से शरीर का रोग खत्म होता है।
दही अभिषेक
दही अभिषेक का भी अत्यंत महत्व है। शिवरात्रि व्रत के दिन शिवलिंग पर दही का अभिषेक करने पर पुत्र की प्राप्ति होती है। साथ ही संतान से संबंधित समस्या भी दूर होती है।